खांसी, जुकाम और फ्लू के लिए सर्वोत्तम उपचार

खांसी, जुकाम और फ्लू के लिए सर्वोत्तम उपचार

 

आमतौर पर भारत में फ्लू का मौसम अगस्त से शुरू हो जाता है | अभी कई लोगों को खांसी, जुखाम और फ्लू हो रहा है |

बदलते मौसम के कारण हर घर में कोई न कोई बीमार है, जिसमें बच्चों और वृद्धों की संख्या सबसे अधिक है | हम में से अधिकतर लोग फार्मा दवाइयों पर निर्भर रहते हैं, क्योंकि वे जल्दी असर करती हैं | लेकिन उनको ज्यादा समय तक लेने से साइड-एफेक्ट हो सकते हैं |

खांसी, जुखाम और दर्द के लिए आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाली दवाइयां, बीपी, शुगर, लिवर तथा किडनी की समस्याओं से पीड़ितके लोगों में हानिकारक साबित हो सकती हैं | इस कारण से यह बहुत जरूरी हो जाता है कि हम सही दवाइयां चुनें जो असरदार भी हो और सुरक्षित भी हों |

इस ब्लॉग में हम कुछ आसान से घरेलू उपायों पर चर्चा करेंगे, जिससे खांसी, जुखाम और फ्लू के लक्षणों में सुधार हो सकता है |

  • अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें (पानी पीएं): हाइड्रेशन बलगम को पतला करने और गले को नम रखने में मदद कर सकता है।
  • शहद: हम सभी जानते हैं कि गले की खराश और खांसी को दूर करने में शहद कितना कारगर है। सोने से पहले एक चम्मच शहद लेने से खांसी को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • स्टीम इनहेलेशन (गरम पानी में भाप): स्टीम इनहेलेशन लेने से बलगम को पतला करने में मदद मिल सकती है, और नाक, गले और साइनस की सूजन कम हो सकती है, जिससे खांसी, सर्दी और फ्लू के लक्षण कम हो सकते हैं।
  • गर्म तरल पदार्थ: गर्म तरल पदार्थ जैसे पानी, सूप या हर्बल चाय पीने से गले में दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिल सकती है। यह नाक और गले में बलगम को पतला करने में भी मदद कर सकता है।
  • हर्बल टी: कई जड़ी-बूटियां गले और नाक में सूजन और दर्द को कम करने में मदद करती हैं। अदरक, तुलसी, मुलेठी, दालचीनी, काली मिर्च, कैमोमाइल, शहद, नींबू आदि को अपनी चाय में शामिल करने से खांसी, जुखाम और फ्लू के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • नींबू: यह विटामिन सी से भरपूर होता है, जो संक्रमण पैदा करने वाले रोगाणुओं से लड़ने के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करता है। शहद के साथ नींबू पानी पीने से बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।
  • गरारे करना: गले में खराश और खांसी को कम करने के लिए गरारे करना एक पारंपरिक और प्रभावी तरीका है। नमक के पानी से गरारे करने या हल्दी के दूध से गरारे करने से गले की खराश और खांसी में सुधार हो सकता है | यह सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए प्रभावी और सुरक्षित है।
  • ठंडे, मसालेदार और तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें क्योंकि वे आपके लक्षणों को ट्रिगर या खराब कर सकते हैं। मसालेदार भोजन खाने से नाक बह सकती है, ठंडे खाद्य पदार्थ छींकने में वृद्धि कर सकते हैं, और तला हुआ भोजन खांसी और गले में खराश को बढ़ा सकता है।

BIBO कैसे मदद करता है!

१. Breathofy Syrup

Breathofy syrup कोई साधारण कफ सिरप नहीं है। यह एक लंग सप्लिमेंट है।

यह कई बिमारियों को नियंत्रित करने में मदद करता है जैसे-

  • खांसी: खांसी एक शरीर की प्रतिक्रिया है जो वायुमार्ग से धूल, धुएं, विदेशी कणों को बाहर निकालने में मदद करती है। सूखी खांसी में, वायुमार्ग को नम रखने के लिए वायुमार्ग पर्याप्त बलगम का उत्पादन नहीं करता है, जबकि गीली या बलगम वाली खांसी में अधिक बलगम का उत्पादन होता है। शहद, तालीसपत्र और अडूसा गले पर अच्छा प्रभाव प्रदान करते हैं और गले में खराश और सूखी खांसी से निपटने में मदद करते हैं, जबकि मुलेठी जैसी जड़ी-बूटियाँ गीली खांसी में बलगम की मात्रा को कम करने में मदद करती हैं।
  • एलर्जी: एलर्जी हमारे वायुमार्ग और नाक को ब्लॉक कर सकती है और वायुमार्ग की सूजन का कारण बन सकती है। तुलसी, सोंठ, भूमि आंवला और तालीसपत्र जैसी जड़ी-बूटियां एलर्जी के खिलाफ इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करती हैं।
  • सर्दी: जुकाम के सबसे आम लक्षणों में नाक बहना, छींक आना और नाक बंद होना शामिल हैं। तुलसी, मुलेठी, सोंठ और अन्य जड़ी-बूटियां सामान्य सर्दी पैदा करने वाले वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी बढ़ाने में और सर्दी के लक्षणों को कम करने में मदद करती हैं।
  • बच्चों और वयस्कों के लिए सुरक्षित |

२. Clear Vapor Patch Ultra

हम सभी जानते हैं कि बच्चों को दवाइयां कितनी नापसंद होती हैं। दवा देखते ही वे भाग जाते हैं।  BIBO ने एक वेपर पैच पेश किया है जिसे बच्चों के कपड़े या तकिए पर चिपकाया जा सकता है। इसमें एसेंशियल ऑयल होते हैं, जो खांसी, सर्दी और फ्लू के लक्षणों को कम करने में प्रभावी होते हैं।

  • सर्दी और खांसी: नीलगिरी का तेल, थाइमोल, मेन्थॉल और कपूर, सर्दी और खांसी का कारण बनने वाली सूजन और संक्रमण को कम करते हैं।
  • नाक के बलगम को कम करना: कपूर और नीलगिरी का तेल रिबाउंड कंजेशन पैदा किए बिना नाक के बलगम को कम करने के लिए जाने जाते हैं
  • एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाता है: मेन्थॉल हमारे वायुमार्ग से एलर्जन को निकालने में और इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं
  • बच्चों के लिए सुरक्षित: BIBO Vapor Patch प्राकृतिक और हानिकारक रसायनों से मुक्त हैं। इसमें वैपर रब की तरह पेट्रोलियम जेली नहीं होती है। पेट्रोलियम जेली से निमोनिया हो सकता है।

 

३. Breathe Blend

  • जल्द राहत: एसेंशियल ऑयल से सर्दी, बहती और बंद नाक, खांसी, गले में खराश, साइनसाइटिस, अस्थमा, और अन्य सांस की बिमारीयों से राहत मिलती है।
  • अरोमाथेरेपी: डिफ्यूज़र में एसेंशियल ऑयल मिलाने से हवा धूल और रोगाणुओं से साफ हो जाती है, जिससे हवा ताज़ी हो जाती है। पाइन ऑयल (चीड़ का तेल) एयर फ्रेशनिंग गुण दिखाता है।
  • स्टीम इनहेलेशन: स्टीम इनहेलर में एसेंशियल ऑयल मिलाने से सर्दी, बहती और बंद नाक, साइनसाइटिस, अस्थमा, और अन्य सांस की बिमारीयों से राहत मिलती है।
  • एयर फ्रेशनर: हवा को धूल और रोगाणुओं से मुक्त रखने के लिए पाइन ऑयल का उपयोग एयर फ्रेशनर के रूप में किया जाता है। धूल के कण साइनसाइटिस और अस्थमा के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं।
  • रोगाणुरोधी: नीलगिरी, थाइमोल, मेन्थॉल और कपूर के एसेंशियल ऑयल सामान्य सर्दी, खांसी, गले में खराश, साइनसाइटिस पैदा करने वाले रोगाणुओं को मारते हैं।
  • साइनसाइटिस: नीलगिरी, थाइमोल, मेन्थॉल, कपूर और पाइन ऑयल साइनसाइटिस और अस्थमा को कम करते हैं।

 

४. Saline Nasal Spray

सलैन नेज़ल स्प्रे (Saline Nasal Spray) सबसे सुरक्षित नेज़ल स्प्रे है। तुलसी और जाइलिटोल से युक्त नेज़ल स्प्रे सर्दी, फ्लू और साइनसाइटिस के लक्षणों में सुधार ला सकता है।

  • बंद नाक से तुरंत राहत: तुलसी के साथ saline नाक में बलगम को पतला करने में मदद करता है और नाक में सूजन को कम करता है।
  • इम्यूनिटी बिल्डर: तुलसी और जाइलिटोल को श्वसन संक्रमण के लिए जिम्मेदार रोगाणुओं को मारकर प्रतिरक्षा बनाने के लिए जाना जाता है।
  • सामान्य सर्दी, साइनसाइटिस, राइनाइटिस आदि के लिए जिम्मेदार रोगाणुओं को मारता है।

 

५. Kadha Mix

हम सभी जानते हैं कि खांसी और जुकाम को कम करने में काढ़ा कितना कारगर होता है | ये खांसी और जुकाम के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक हैं।
  • गले पर अच्छा प्रभाव: BIBO Kadha Mix में शहद, मुलेठी और मेन्थॉल होता है, जो गले पर अच्छा प्रभाव प्रदान करता है और गले में खराश और खांसी को कम करने में मदद करता है।
  • बलगम को साफ करने में मदद करता है: तुलसी में एक्सपेक्टोरेंट गुण होते हैं, जो नाक और साइनस के बलगम को कम करने में मदद करते हैं।
  • इम्यूनिटी बिल्डर: तुलसी, मुलेठी, सोंठ और अडूसा जैसी जड़ी-बूटियां संक्रमण पैदा करने वाले विभिन्न रोगाणुओं से लड़ने के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करती हैं।
  • स्वाद जो बच्चों को पसंद आएगा: बीबो काढ़ा मिक्स में शहद होता है और यह अन्य काढ़ों की तरह मसालेदार नहीं होता है।
  • जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण दिखाता है।
  • बच्चों और वयस्कों के लिए सुरक्षित।
Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

Our Product and Services